ये समय समय का फेरा है लिरिक्स ye samye smaye ka phera hai

ये समय समय का फेरा है
कब क्या हो किसने जाना है

राज तिलक की थी तैयारी
हर्षित थी नगरी सारी
ककई तो एक बहाना है
वनवास जो होने वाला है

सीता सती साध्वी नारी
महलो को ठोकर मारी
मिरग तो एक बहाना है
सीता हरण जो होने वाला है

राम हुए है दुखी अति भारी
कहाँ गयी मिथलेश कुमारी
पता लगाना एक बहाना है
भक्तो के घर प्रभु को जाना है

सुग्रीव से मिलकर करी मिताई
हनुमत हो गए उनके सहायी
पूंछ की आग तो एक बहाना है
लंका जलना तो होने वाला है

राम रावण का युद्ध था भारी
मारी गई राक्षस सेना सारी
सीता हरण तो एक बहाना है
रावण मरण जो होने वाला है

ye samay samay ka phera hai
kab kya ho kisane jaana hai

raaj tilak kee thee taiyaaree
harshit thee nagaree saaree
kakee to ek bahaana hai
vanavaas jo hone vaala hai

seeta satee saadhvee naaree
mahalo ko thokar maaree
mirag to ek bahaana hai
seeta haran jo hone vaala hai

raam hue hai dukhee ati bhaaree
kahaan gayee mithalesh kumaaree
pata lagaana ek bahaana hai
bhakto ke ghar prabhu ko jaana hai

sugreev se milakar karee mitaee
hanumat ho gae unake sahaayee
poonchh kee aag to ek bahaana hai
lanka jalana to hone vaala hai

raam raavan ka yuddh tha bhaaree
maaree gaee raakshas sena saaree
seeta haran to ek bahaana hai
raavan maran jo hone vaala hai

Leave a Comment