याहा जगत में राम पधारे उसी अयोध्या जाना है लिरिक्सyaha jagat me ram padhaare usi ayodhya jana hai

पांच सदी के इन्तजार को मिल कर हमे सजाना है,
याहा जगत में राम पधारे उसी अयोध्या जाना है,

याहा हजारो राखी रोई ममता गोली खाई है,
जाने कितने संगर्शो से झुजी नित तरुनाई है
राम के रूप में संस्कृति का वो प्रांगन प्रीत सजाना है
याहा जगत में राम पधारे उसी अयोध्या जाना है,

जाने कितने सत पर्यास से ये शुभ वेला आई है
कितने रूप दल दले गए है तब ये मेला भई है
कितने सूत बलिदान हुए फिर कितने आंसू बहाए है
कितनो ने फिर करी तपस्या तब हम ये दिन पाए है
अपने घर को समज अयोध्या सज के दीप जगाना है
शीला न्यास के बाद दर्श को उसी अयोध्या जाना है

राम लक्ष्मण भरत शत्रुघन हनुमत याहा महान हुए
जिन गलियों में चले राम श्री मर्यादा अभिमान हुए
भारत माँ के जो बालक माँ सरयू तट बलिदान हुए
हम है साक्षी वो भी युग के मंदिर भव्य बनाना है
याहा जगत में राम पधारे उसी अयोध्या जाना है,

paanch sadee ke intajaar ko mil kar hame sajaana hai,
yaaha jagat mein raam padhaare usee ayodhya jaana hai,

yaaha hajaaro raakhee roee mamata golee khaee hai,
jaane kitane sangarsho se jhujee nit tarunaee hai
raam ke roop mein sanskrti ka vo praangan preet sajaana hai
yaaha jagat mein raam padhaare usee ayodhya jaana hai,

jaane kitane sat paryaas se ye shubh vela aaee hai
kitane roop dal dale gae hai tab ye mela bhee hai
kitane soot balidaan hue phir kitane aansoo bahae hai
kitano ne phir karee tapasya tab ham ye din pae hai
apane ghar ko samaj ayodhya saj ke deep jagaana hai
sheela nyaas ke baad darsh ko usee ayodhya jaana hai

raam lakshman bharat shatrughan hanumat yaaha mahaan hue
jin galiyon mein chale raam shree maryaada abhimaan hue
bhaarat maan ke jo baalak maan sarayoo tat balidaan hue
ham hai saakshee vo bhee yug ke mandir bhavy banaana hai
yaaha jagat mein raam padhaare usee ayodhya jaana hai,

Leave a Comment