सुन राधिका दुलारी मैं तेरे द्वार का भिखारी

sun radhika dulari main tere dwar ka bhikari lyrics in hindi

सुन राधिका दुलारी में, हूँ द्वार का भिखारी,
तेरे श्याम का पुजारी, एक पीड़ा है हमारी ,
हमें श्याम न मिला …

हम समझे थे कान्हा कही कुंजन में होगा,
अभी तो मिलन का हमने सुख नहीं भोगा

ओ सुनके प्रेम कि परिभाषा, मन में बंधी थी जो आशा,
आशा भई रे निराशा, झूटी दे गया दिलाशा
हमें श्याम न मिला…

देता है कन्हाई जिसे प्रेम कि दिशा,
सब विधि उसकी लेता भी है परीक्षा …..

ओ कभी निकट बुलाये, कभी दूरियाँ बढ़ाये,
कभी हषायें रुलाये छलिया हाथ नहीं आये
हमें श्याम ना मिला…

ओ अपना जिसे यहाँ कहे सब कोई, उसके लिए में दिन रात रोई,
ओ नेह दुनिया से तोडा, नाता संवारे से जोड़ा,
उसने ऐसा मुख मोड़ा हमें कही का ना छोड़ा
हमें श्याम ना मिला …

sun radhika dulari main tere dwar ka bhikari lyrics in english

sun raadhika dulaaree mein, hoon dvaar ka bhikhaaree,
tere shyaam ka pujaaree, ek peeda hai hamaaree ,
hamen shyaam na mila …

ham samajhe the kaanha kahee kunjan mein hoga,
abhee to milan ka hamane sukh nahin bhoga

o sunake prem ki paribhaasha, man mein bandhee thee jo aasha,
aasha bhee re niraasha, jhootee de gaya dilaasha
hamen shyaam na mila…

deta hai kanhaee jise prem ki disha,
sab vidhi usakee leta bhee hai pareeksha …..

o kabhee nikat bulaaye, kabhee dooriyaan badhaaye,
kabhee hashaayen rulaaye chhaliya haath nahin aaye
hamen shyaam na mila…

o apana jise yahaan kahe sab koee, usake lie mein din raat roee,
o neh duniya se toda, naata sanvaare se joda,
usane aisa mukh moda hamen kahee ka na chhoda
hamen shyaam na mila ..

sun radhika dulari main tere dwar ka bhikari lyrics

Leave a Comment