सीता राम दर्श रस बरसे जैसे सावन की घड़ी लिरिक्सsita ram darsh ras barse jaise sawan ki ghadi

कोश्यल नन्द राजा राम जानकी भलव सीता राम
जय सिया राम जय जय सिया राम

ऐसे राम दर्श रस बरसे जैसे सावन की घडी
सावन की घडी प्यासे प्राणों पे पड़ी
सीता राम दर्श रस बरसे जैसे सावन की घडी ,

रोम रोम को नैन बना लो राम सिया के दर्शन पा लो
भ्र्सो पीछे आई है ये मिल्न की घडी
सीता राम दर्श रस बरसे जैसे सावन की घड़ी

राम लखन अनमोल नगीने अवध अंगूठी में जड लीले
सीता एसी सोही जैसे मोती की लड़ी,
सीता राम दर्श रस बरसे जैसे सावन की घड़ी

koshyal nand raaja raam jaanakee bhalav seeta raam
jay siya raam jay jay siya raam

aise raam darsh ras barase jaise saavan kee ghadee
saavan kee ghadee pyaase praanon pe padee
seeta raam darsh ras barase jaise saavan kee ghadee ,

rom rom ko nain bana lo raam siya ke darshan pa lo
bhrso peechhe aaee hai ye miln kee ghadee
seeta raam darsh ras barase jaise saavan kee ghadee

raam lakhan anamol nageene avadh angoothee mein jad leele
seeta esee sohee jaise motee kee ladee,
seeta raam darsh ras barase jaise saavan kee ghadee

Leave a Comment