शोभा तुम अपने धाम की प्रभु खुद बड़ा रहे हो लिरिक्सshobha tum apne dhaam ki prabhu khud bda rahe ho

मंदिर तुम्हारा राम जी तुम ही बना रहे हो
शोभा तुम अपने धाम की प्रभु खुद बड़ा रहे हो ,
भगतो की भ्वानायो का परिषम चडा रहे हो
शोभा तुम अपने धाम की प्रभु खुद बड़ा रहे हो ,

सरयू नदी की लेहरे फिर गुनगुना रही है
श्री राम नामधुन ये जैसे सुना रही है
योगी महनत साधू सब मुस्कुरा रहे है
श्रधा सुमन पिरो कर माला बना रहे है
पूजन तुम्हारी भूमि का तुम ही करा रहे हो
शोभा तुम अपने धाम की प्रभु खुद बड़ा रहे हो ,

जो नाम लिख के पत्थर पानी में थे तराए
वो ही नाम हर शिला पर हम लिख के आज लाये,
हे राम लला हम ने कुछ पुण्ये थे कमाए
जोबन के कार सेवक सेवा के काम आये
चन्दन हमारे प्रेम का मस्तक लगा रहे हो
शोभा तुम अपने धाम की प्रभु खुद बड़ा रहे हो ,

भगतो की आसथा में भीगी ये प्रीत आई,
ये अवध में विशव भर से इक इक जो इत आई,
हर हार को हरा कर देखो ये जीत आई
अपना वचन निभाने रघुकुल की रीत आई
सन्देश हर इक देश को तुम से सुना रहे हो
शोभा तुम अपने धाम की प्रभु खुद बड़ा रहे हो ,

mandir tumhaara raam jee tum hee bana rahe ho
shobha tum apane dhaam kee prabhu khud bada rahe ho ,
bhagato kee bhvaanaayo ka parisham chada rahe ho
shobha tum apane dhaam kee prabhu khud bada rahe ho ,

sarayoo nadee kee lehare phir gunaguna rahee hai
shree raam naamadhun ye jaise suna rahee hai
yogee mahanat saadhoo sab muskura rahe hai
shradha suman piro kar maala bana rahe hai
poojan tumhaaree bhoomi ka tum hee kara rahe ho
shobha tum apane dhaam kee prabhu khud bada rahe ho ,

jo naam likh ke patthar paanee mein the tarae
vo hee naam har shila par ham likh ke aaj laaye,
he raam lala ham ne kuchh punye the kamae
joban ke kaar sevak seva ke kaam aaye
chandan hamaare prem ka mastak laga rahe ho
shobha tum apane dhaam kee prabhu khud bada rahe ho ,

bhagato kee aasatha mein bheegee ye preet aaee,
ye avadh mein vishav bhar se ik ik jo it aaee,
har haar ko hara kar dekho ye jeet aaee
apana vachan nibhaane raghukul kee reet aaee
sandesh har ik desh ko tum se suna rahe ho
shobha tum apane dhaam kee prabhu khud bada rahe ho ,

Leave a Comment