सजा दो घर को गुलशन सा लिरिक्सsajaa do ghar ko gulshan ka mere sarkaar aaye ha

सजा दो घर को गुलशन सा मेरे सरकार आये है
लगे कुटिया भी दुल्हन सी
मेरे सरकार आये है

पखारो इन के चरणों को बहा कर प्रेम की गंगा,
बिछा दो अपनी पलकों को मेरे सरकार आये है
सजा दो घर को गुलशन सा अवध में राम आये हैं

सरकार आ गए है मेरे गरीब खाने में
आया दिल को सकूं उनके करीब आने में,
मुदत से प्यासी अखियो को मिला आज वो सागर
भटका था जिसको पाने की खातिर आज जमाने में

उमड़ आई मेरी आंखे देख कर अपने बाबा को
हुई रोशन मेरी गलियां मेरे सरकार आये है
सजा दो घर को गुलशन सा अवध में राम आये हैं

तुम आ कार भी नही जाना
मेरी इस सुनी दुनिया से,
कहू हर दम यही सब से मेरे सरकार आये है,
सजा दो घर को गुलशन सा अवध में राम आये हैं

saja do ghar ko gulashan sa mere sarakaar aaye hai
lage kutiya bhee dulhan see
mere sarakaar aaye hai

pakhaaro in ke charanon ko baha kar prem kee ganga,
bichha do apanee palakon ko mere sarakaar aaye hai
saja do ghar ko gulashan sa avadh mein raam aaye hain

sarakaar aa gae hai mere gareeb khaane mein
aaya dil ko sakoon unake kareeb aane mein,
mudat se pyaasee akhiyo ko mila aaj vo saagar
bhataka tha jisako paane kee khaatir aaj jamaane mein

umad aaee meree aankhe dekh kar apane baaba ko
huee roshan meree galiyaan mere sarakaar aaye hai
saja do ghar ko gulashan sa avadh mein raam aaye hain

tum aa kaar bhee nahee jaana
meree is sunee duniya se,
kahoo har dam yahee sab se mere sarakaar aaye hai,
saja do ghar ko gulashan sa avadh mein raam aaye hain

Leave a Comment