राम मैं तो जब से शरण तेरी आया लिरिक्सram main to jab se sharn teri aaya

राम मैं तो जब से शरण तेरी आया
आनंद आनंद मैंने पाया
मेरे राम मेरे राम सांचा है तेरा नाम

अंधकार में भटक रहा था,
सूजे न कोई किनारा
तूने मन में ज्योत जला कर दूर किया अंधियारा
तू ही है इक सहारा जीवन का सच पाया,
राम मैं तो जब से शरण तेरी आया

हर पल मेरे पास रहा तू फिर भी देख न पाया
जग बंधन में कैसा उल्जा पास न तेरे आया,
भटके हुए राही को राह पे तूने लगाया
राम मैं तो जब से शरण तेरी आया

raam main to jab se sharan teree aaya
aanand aanand mainne paaya
mere raam mere raam saancha hai tera naam

andhakaar mein bhatak raha tha,
sooje na koee kinaara
toone man mein jyot jala kar door kiya andhiyaara
too hee hai ik sahaara jeevan ka sach paaya,
raam main to jab se sharan teree aaya

har pal mere paas raha too phir bhee dekh na paaya
jag bandhan mein kaisa ulja paas na tere aaya,
bhatake hue raahee ko raah pe toone lagaaya
raam main to jab se sharan teree aaya

Leave a Comment