राम जपो राम लिरिक्स ram jpo ram

राम राम राम राम जपो राम राम राम,
राम ही आगाज है और राम ही अंजाम
राम नाम गाये जो पा जाएगा वो चारो धाम
राम राम राम राम जपो राम राम राम,

जो तुझमे मुझमे बोलता है राम ही तो है
जो पाप पुण्ये तोलता है राम ही तो है
उस से बड़ा न देव कोई है न संत है,
उस से ही तू जन्मा है तेरा वो ही अंत है
हर रात की सुबह है वो हर सुबह ही की है शाम
राम राम राम राम जपो राम राम राम,

जब तक चले ये सांस जपो राम की माला
पापो के अंधेरो में है ये नाम उजाला
तू है पतंग डोर तेरी उस के हाथ है
उस के बिना उड़े तू तेरी क्या बिसात है,
दुःख की घडी में आता है बस राम सब के काम,
राम राम राम राम जपो राम राम राम,

raam raam raam raam japo raam raam raam,
raam hee aagaaj hai aur raam hee anjaam
raam naam gaaye jo pa jaega vo chaaro dhaam
raam raam raam raam japo raam raam raam,

jo tujhame mujhame bolata hai raam hee to hai
jo paap punye tolata hai raam hee to hai
us se bada na dev koee hai na sant hai,
us se hee too janma hai tera vo hee ant hai
har raat kee subah hai vo har subah hee kee hai shaam
raam raam raam raam japo raam raam raam,

jab tak chale ye saans japo raam kee maala
paapo ke andhero mein hai ye naam ujaala
too hai patang dor teree us ke haath hai
us ke bina ude too teree kya bisaat hai,
duhkh kee ghadee mein aata hai bas raam sab ke kaam,
raam raam raam raam japo raam raam raam,

Leave a Comment