ओं लाल बाग़ के राजा रिधि सिद्धि को ले के आजा लिरिक्सo lal baabh ke raja riddhi siddhi ko leker aaja

ओं लाल बाग़ के राजा रिधि सिद्धि को ले के आजा,
मोदक का थाल सजाऊ तू आकर भोग लगा जा,
ओं लाल बाग़ के राजा रिधि सिद्धि को ले के आजा

देवो में देव बलकारी है तेरी मुशक की असवारी है,
राजाओ के महाराजा,रिधि सिद्धि को ले के आजा
ओं लाल बाग़ के राजा …..

पितु माँ का आज्ञाकारी है तुम्हे जाने दुनिया सारी है,
दर्शन की प्यास बूजा जा रिधि सिद्धि को ले के आजा
ओं लाल बाग़ के राजा …..

देवो में पहली गिनती है पप्पू शर्मा की विनती है,
मेरी नैया पार लगा जा रिधि सिद्धि को ले के आजा
ओं लाल बाग़ के राजा …..

on laal baag ke raaja ridhi siddhi ko le ke aaja,
modak ka thaal sajaoo too aakar bhog laga ja,
on laal baag ke raaja ridhi siddhi ko le ke aaja

devo mein dev balakaaree hai teree mushak kee asavaaree hai,
raajao ke mahaaraaja,ridhi siddhi ko le ke aaja
on laal baag ke raaja …..

pitu maan ka aagyaakaaree hai tumhe jaane duniya saaree hai,
darshan kee pyaas booja ja ridhi siddhi ko le ke aaja
on laal baag ke raaja …..

devo mein pahalee ginatee hai pappoo sharma kee vinatee hai,
meree naiya paar laga ja ridhi siddhi ko le ke aaja
on laal baag ke raaja …..

Leave a Comment