नाव पड़ी मजधार मैया लिरिक्सnaav padi majdhaar maiya

नाव पड़ी मजधार मैया जी पार लगा जाओ
होकर सिंह सवार मैया जी जल्दी आ जाओ

नैया मेरी डोल रही है तू क्यों बेठी है चुप चाप
बीच भवर मे मेरी बर्बादी कैसे देख रही मैया आप,
क्यों करती इनकार मैया जी मुझको बता जाओ
होकर सिंह सवार मैया जी जल्दी आ जाओ

आंधी तूफानों से लड़ते हार गया माँ लाल तेरा
तुझपर है विश्वाश मैया जी तोड़ी न विश्वाश मेरा
अब तो लो पतवार हाथ में पार लगा जाओ
होकर सिंह सवार मैया जी जल्दी आ जाओ

बीच भवर में फसी नैया केवट कहा से लाऊ माँ
तुझ बिन रक्षा हो नही सकती कितना भी चिलाऊ माँ
तू मेरी पतवार चहल के दुःख मिटा जाओ
होकर सिंह सवार मैया जी जल्दी आ जाओ

naav padee majadhaar maiya jee paar laga jao
hokar sinh savaar maiya jee jaldee aa jao

naiya meree dol rahee hai too kyon bethee hai chup chaap
beech bhavar me meree barbaadee kaise dekh rahee maiya aap,
kyon karatee inakaar maiya jee mujhako bata jao
hokar sinh savaar maiya jee jaldee aa jao

aandhee toophaanon se ladate haar gaya maan laal tera
tujhapar hai vishvaash maiya jee todee na vishvaash mera
ab to lo patavaar haath mein paar laga jao
hokar sinh savaar maiya jee jaldee aa jao

beech bhavar mein phasee naiya kevat kaha se laoo maan
tujh bin raksha ho nahee sakatee kitana bhee chilaoo maan
too meree patavaar chahal ke duhkh mita jao
hokar sinh savaar maiya jee jaldee aa jao

Leave a Comment