माता संग जग माता के धाम ये भैया लिरिक्स maata ke sang jag maata ke dhaam ye bhaiya

प्रतापगढ़ में चंदीपुर धाम ऐ भैया
माता संग जग माता के धाम ये भैया

माँ की आरती और भजनों से होता सवेरा
दुनिया में अद्भुत है ऐसा चंदीपुर मेरा,
भगती में शक्ति का है बस काम ऐ भैया
माता संग जग माता के धाम ये भैया

दो हजार दस में मैया का आना हुआ था याहा
बरसती है नित किरपा जानता जहां,
चेत और नोराती की दिव्य है शाम एह भैया
माता संग जग माता के धाम ये भैया

माँ फूल कलि हुई धन्ये जिनके अरुण पुत्र हुए
माँ के सपनों का ये धाम तीर्थ बना दिए
गाता है दवेंदर माँ का नाम ऐ भैया
माता संग जग माता के धाम ये भैया

prataapagadh mein chandeepur dhaam ai bhaiya
maata sang jag maata ke dhaam ye bhaiya

maan kee aaratee aur bhajanon se hota savera
duniya mein adbhut hai aisa chandeepur mera,
bhagatee mein shakti ka hai bas kaam ai bhaiya
maata sang jag maata ke dhaam ye bhaiya

do hajaar das mein maiya ka aana hua tha yaaha
barasatee hai nit kirapa jaanata jahaan,
chet aur noraatee kee divy hai shaam eh bhaiya
maata sang jag maata ke dhaam ye bhaiya

maan phool kali huee dhanye jinake arun putr hue
maan ke sapanon ka ye dhaam teerth bana die
gaata hai davendar maan ka naam ai bhaiya
maata sang jag maata ke dhaam ye bhaiya

Leave a Comment