लीला अद्भुत न्यारी थी जब अवतारी श्री राम हुए लिरिक्सleela adhbhut nyari thi jab avtaari shri ram huye

लीला अद्भुत न्यारी थी जब अवतारी श्री राम हुए
त्रेता युग के कोरव बन कर इश्वर का इक नाम हुए
लीला अद्भुत न्यारी थी जब अवतारी श्री राम हुए

मर्यादा पुर्शोतम थे वो पिता का करते थे समान
वचन वध थे पुत्र रूप में वन की और किया पर्स्थान
चरण पड गए वन में उनके जंगल भी अब धाम हुए
लीला अद्भुत न्यारी थी जब अवतारी श्री राम हुए

अमृत मंथन जैसा ही है इस पृथ्वी पर राम अवतार
राम नाम की इक बूंद से तर जाता सारा संसार
जो मन से ले राम नाम को उस के पुरे काम हुए
लीला अद्भुत न्यारी थी जब अवतारी श्री राम हुए

रावन वध जब किया राम ने दुष्टों का संगार किया
वीर राम के इस पुरुष ने सब का ही उधार किया
इस लीला को पूरी करके द्वापर पे वो श्याम हुए
लीला अद्भुत न्यारी थी जब अवतारी श्री राम हुए

leela adbhut nyaaree thee jab avataaree shree raam hue
treta yug ke korav ban kar ishvar ka ik naam hue
leela adbhut nyaaree thee jab avataaree shree raam hue

maryaada purshotam the vo pita ka karate the samaan
vachan vadh the putr roop mein van kee aur kiya parsthaan
charan pad gae van mein unake jangal bhee ab dhaam hue
leela adbhut nyaaree thee jab avataaree shree raam hue

amrt manthan jaisa hee hai is prthvee par raam avataar
raam naam kee ik boond se tar jaata saara sansaar
jo man se le raam naam ko us ke pure kaam hue
leela adbhut nyaaree thee jab avataaree shree raam hue

raavan vadh jab kiya raam ne dushton ka sangaar kiya
veer raam ke is purush ne sab ka hee udhaar kiya
is leela ko pooree karake dvaapar pe vo shyaam hue
leela adbhut nyaaree thee jab avataaree shree raam hue

Leave a Comment