कोई दिकत नही है लिरिक्सkoi dikat nhi hai

घाट घाट का पानी पी कर देश विदेश में रेह कर जी कर
पोहंचा माँ के द्वार के अब कोई दिकत नही है

तू जगजननी आध भवानी,
तू जगदम्बे तू कल्याणी दर्शन कर पर्शन हो गया मैया मैं तो धन्य हो गया
मिल गया माँ का प्यार के अब कोई दिकत नही है ,

तेरे दर पे जो भी आये मुह माँगा फल मैया पाए,
तेरे जैसा ना कोई मैया तू ही पार लगाये नैया
करती है उपकार के अब कोई दिकत नही है ,

शाह्कोटी तेरा भगत प्यारा पूरण को माँ तेरा सहारा
तेरी किरपा से मेरी दाती दुनिया सारी भेटे गाती करती है सवीकार
के अब कोई दिकत नही है ,

ghaat ghaat ka paanee pee kar desh videsh mein reh kar jee kar
pohancha maan ke dvaar ke ab koee dikat nahee hai

too jagajananee aadh bhavaanee,
too jagadambe too kalyaanee darshan kar parshan ho gaya maiya main to dhany ho gaya
mil gaya maan ka pyaar ke ab koee dikat nahee hai ,

tere dar pe jo bhee aaye muh maanga phal maiya pae,
tere jaisa na koee maiya too hee paar lagaaye naiya
karatee hai upakaar ke ab koee dikat nahee hai ,

shaahkotee tera bhagat pyaara pooran ko maan tera sahaara
teree kirapa se meree daatee duniya saaree bhete gaatee karatee hai saveekaar
ke ab koee dikat nahee hai ,

Leave a Comment