जिनके हाथों मे सुदर्शन चक्र रहे लिरिक्सjinke hathon me sudarshan chkar rahe

जिनके हाथों में सुदर्शन चक्र रहे,
जिनके अधरों पे मुस्कान बिखरी रहे
वो हैं मन भावन श्री मन नारायण,नारायण

भक्तों के कष्ट काटने हेतू
कितने ही अवतार किये
त्रेता में जन्मे राम बनकर
द्वापर में घनश्याम बने
धनुष जिनके हाथों की शोभा बने
सिया जिनके संग में विराजी रहें
वो हैं मन भावन वो हैं अति पावन जय श्री राम

मर्यादा का पाठ सिखाया
और वचन को निभाना बताया
पिता के वचनों के मान के खातिर
वनवास को भी खुशी निभाया
एसे प्रभू धरती पर आते रहे
कष्ट मिटा ते रहें
वो हैं मन भावन वो हैं अति पावन जय श्री राम

प्रेम करना इनोह्ने सिखाया
और कंस का संहार किया
इन्द्र के अभिमान को तोड़ा
नख पर गिरवर धारण किया
एसे प्रभू धरती पर आते रहें
कष्ट मिटा ते रहें
वो हैं बड़ा छलिया रास रचैया गोपला

jinake haathon mein sudarshan chakr rahe,
jinake adharon pe muskaan bikharee rahe
vo hain man bhaavan shree man naaraayan,naaraayan

bhakton ke kasht kaatane hetoo
kitane hee avataar kiye
treta mein janme raam banakar
dvaapar mein ghanashyaam bane
dhanush jinake haathon kee shobha bane
siya jinake sang mein viraajee rahen
vo hain man bhaavan vo hain ati paavan jay shree raam

maryaada ka paath sikhaaya
aur vachan ko nibhaana bataaya
pita ke vachanon ke maan ke khaatir
vanavaas ko bhee khushee nibhaaya
ese prabhoo dharatee par aate rahe
kasht mita te rahen
vo hain man bhaavan vo hain ati paavan jay shree raam

prem karana inohne sikhaaya
aur kans ka sanhaar kiya
indr ke abhimaan ko toda
nakh par giravar dhaaran kiya
ese prabhoo dharatee par aate rahen
kasht mita te rahen
vo hain bada chhaliya raas rachaiya gopala

Leave a Comment