गोदी में राम लाला लिरिक्सgodi me ram lala

गोदी में राम लाला अखियो में पानी
राम जी को लेके चली और चाल रानी,

बाल रूप प्रभु दर्शन ऐसे माँ की गोदी कुवर हो जैसे,
तीन लोक में जिनकी माया उन पर है आँचल की छाया
कुवर गणेश लगे कोश्याला शानी
राम जी को लेके चली और चाल रानी,

पल पल छीन छीन बीते ऐसे तो युग पुरे कटे ये कैसे,
त्रेता युग बन भेज दियां था,
कलसहित मन ये पाप किया था
राम बिन कठिन है इक घड़ी बितानी
राम जी को लेके चली और चाल रानी,

बिलख करे सब अवध निवाशी जाने नही है सिन्धु सुख रासी
सुनी हुई है अयोध्या मोरी
विनती करत तुम तुमसे कर जोरी
हो ना अधीर धीर धरो संत ग्यानी
दोनों नगर में रहे राम की राजधानी,
राम जी को लेके चली और चाल रानी,

मुख मयंक शीतला एसी दीन बंधू तीनो के हितेषी
मुख मंडल जो ॐ परकाशा धाम और का कर ही निवासा,
लेते आशीष याहा धीर पीर ग्यानी
राम जी को लेके चली और चाल रानी,

godee mein raam laala akhiyo mein paanee
raam jee ko leke chalee aur chaal raanee,

baal roop prabhu darshan aise maan kee godee kuvar ho jaise,
teen lok mein jinakee maaya un par hai aanchal kee chhaaya
kuvar ganesh lage koshyaala shaanee
raam jee ko leke chalee aur chaal raanee,

pal pal chheen chheen beete aise to yug pure kate ye kaise,
treta yug ban bhej diyaan tha,
kalasahit man ye paap kiya tha
raam bin kathin hai ik ghadee bitaanee
raam jee ko leke chalee aur chaal raanee,

bilakh kare sab avadh nivaashee jaane nahee hai sindhu sukh raasee
sunee huee hai ayodhya moree
vinatee karat tum tumase kar joree
ho na adheer dheer dharo sant gyaanee
donon nagar mein rahe raam kee raajadhaanee,
raam jee ko leke chalee aur chaal raanee,

mukh mayank sheetala esee deen bandhoo teeno ke hiteshee
mukh mandal jo om parakaasha dhaam aur ka kar hee nivaasa,
lete aasheesh yaaha dheer peer gyaanee
raam jee ko leke chalee aur chaal raanee,

Leave a Comment