देवो में देव है निराला अपना है सेठ गणपति लाला लिरिक्सdevo me dev hai nirala apna hai seth ganpati lala

शिव शंकर सुख देव गणपति देवो में बलकारी,
सब से पहले तेरा सुमिरन करती दुनिया सारी,
देवो में देव है निराला अपना है सेठ गणपति लाला,

रनत भवन दरबार लगा बैठा है सरकार वहां,
सीधी विनायक सा जग में और कोई दातार कहा,
सारी दुनिया का रखवाला अपना है सेठ गणपति लाला,
देवो में देव है निराला अपना है सेठ गणपति लाला,

चार बजा धारी है मूसे की असवारी है,
लड्डूवन का तुझे भोग लगे भगतो का हितकारी है,
सारे विग्नो को इस ने ताला ,अपना है सेठ गणपति लाला,
देवो में देव है निराला अपना है सेठ गणपति लाला,

धुंद धुलाला सूंड सुंडाला मस्तक मोटा कान है,
देवो के सिर मोर गजानन ऊंची तेरी शान है,
सब की झोली में इस ने डाला,अपना है सेठ गणपति लाला,
देवो में देव है निराला अपना है सेठ गणपति लाला,

shiv shankar sukh dev ganapati devo mein balakaaree,
sab se pahale tera sumiran karatee duniya saaree,
devo mein dev hai niraala apana hai seth ganapati laala,

ranat bhavan darabaar laga baitha hai sarakaar vahaan,
seedhee vinaayak sa jag mein aur koee daataar kaha,
saaree duniya ka rakhavaala apana hai seth ganapati laala,
devo mein dev hai niraala apana hai seth ganapati laala,

chaar baja dhaaree hai moose kee asavaaree hai,
laddoovan ka tujhe bhog lage bhagato ka hitakaaree hai,
saare vigno ko is ne taala ,apana hai seth ganapati laala,
devo mein dev hai niraala apana hai seth ganapati laala,

dhund dhulaala soond sundaala mastak mota kaan hai,
devo ke sir mor gajaanan oonchee teree shaan hai,
sab kee jholee mein is ne daala,apana hai seth ganapati laala,
devo mein dev hai niraala apana hai seth ganapati laala,

Leave a Comment