भजमन राम रे दीवाना लिरिक्सbhajmn ram re deewana

भजमन राम रे दीवाना नही तेरे भ्रम का नही ठिकाना
भ्रम का नही ठिकाना रे झूठा है नेह लगाना
भजमन राम रे दीवाना नही तेरे भ्रम का नही ठिकाना

कौन तेरा है तू किस का धन योवन सब ना निशकारे,
छोड़ कमानी का चस्का रे यही है नरक निशाना
भजमन राम रे दीवाना नही तेरे भ्रम का नही ठिकाना

भाई बंधू पुत्र सनेही यम के दूत बनेगे यही,
जिसे कहे तू मेरा मेरा वो ही फुके तन तेरा
भजमन राम रे दीवाना नही तेरे भ्रम का नही ठिकाना

भाव सागर से तरना चाहे पी ले प्याला हरी रस का रे,
प्रेम मगन हो ये दास केहत है फिर नही आना जाना
भजमन राम रे दीवाना नही तेरे भ्रम का नही ठिकाना

bhajaman raam re deevaana nahee tere bhram ka nahee thikaana
bhram ka nahee thikaana re jhootha hai neh lagaana
bhajaman raam re deevaana nahee tere bhram ka nahee thikaana

kaun tera hai too kis ka dhan yovan sab na nishakaare,
chhod kamaanee ka chaska re yahee hai narak nishaana
bhajaman raam re deevaana nahee tere bhram ka nahee thikaana

bhaee bandhoo putr sanehee yam ke doot banege yahee,
jise kahe too mera mera vo hee phuke tan tera
bhajaman raam re deevaana nahee tere bhram ka nahee thikaana

bhaav saagar se tarana chaahe pee le pyaala haree ras ka re,
prem magan ho ye daas kehat hai phir nahee aana jaana
bhajaman raam re deevaana nahee tere bhram ka nahee thikaana

Leave a Comment