अश्रुधारा रूकती नही है लिरिक्सashrudhaara rukti nhi hai

अश्रुधारा रूकती नही है
मेरे मुह को कलेजा आ रहा
भाई लक्ष्मण मुर्षित पड़े है,
मेरा दम निकलता जा रहा
अश्रुधारा रूकती नही है

हो मेरे लिए तो वन वन भटका राज्ये सुख भी त्याग दिया,
मात पिता भी त्याग दिए और पत्नी से वैराग किया
क्या मुह लेके जाऊ अयोध्या मुझको ये गम खा रहा
अश्रुधारा रूकती नही है

मुझे वैदेही मिल भी गई तो लक्ष्मण बिन मेरा क्या होगा,
हो निश्ये ही मैं प्राण त्याग दू फिर भी न माफ़ गुनाह होगा
लक्ष्मण ने की धर्म पालना पाप में शायद कमा रहा
अश्रुधारा रूकती नही है

हो तीनो माता भरत शत्रु घन जीवत रेह नही पाए गे,
द्रोनाचल से भुट्टी हनुमंत लायेगे या न लायेगे
हो राम कमल सिंह होए अधीर साया गम का छा रहा,
अश्रुधारा रूकती नही है

ashrudhaara rookatee nahee hai
mere muh ko kaleja aa raha
bhaee lakshman murshit pade hai,
mera dam nikalata ja raha
ashrudhaara rookatee nahee hai

ho mere lie to van van bhataka raajye sukh bhee tyaag diya,
maat pita bhee tyaag die aur patnee se vairaag kiya
kya muh leke jaoo ayodhya mujhako ye gam kha raha
ashrudhaara rookatee nahee hai

mujhe vaidehee mil bhee gaee to lakshman bin mera kya hoga,
ho nishye hee main praan tyaag doo phir bhee na maaf gunaah hoga
lakshman ne kee dharm paalana paap mein shaayad kama raha
ashrudhaara rookatee nahee hai

ho teeno maata bharat shatru ghan jeevat reh nahee pae ge,
dronaachal se bhuttee hanumant laayege ya na laayege
ho raam kamal sinh hoe adheer saaya gam ka chha raha,
ashrudhaara rookatee nahee hai

Leave a Comment