ऐसा है मेरे श्री हरि का नाम लिरिक्सaisa hai mere shri hari ka naam

ऐसा है मेरे श्री हरि का नाम ,
कैसे उनका करूँ गुणगान, बाकी कोई न करुणानिधान .
ऐसा है मेरे…..

निष्छल भक्ति तेरी हरदम होती है ,
लेते हैं जब परीक्षा तब तब रोती है ,
ग्राह गज की कथा में कहा है ,
गज की प्रभु ने बचाई है जान ,
ऐसा है मेरे …….

तेरी ही इक कृपा से प्रह्लाद बनते हैं ,
ध्रव सा महा तपस्वी तेरा नाम जपते हैं ,
जिनको विपदा से तुमने उबारा ,
दे दिया उनको अपना ही धाम ,
ऐसा है मेरे………

एक बार में भी उपकार करते हैं ,
निर्धन विप्र सुदामा के भंडार भरते हैं ,
द्रोपदी की बचाई थी लाज ,
उनको ही है मेरा प्रणाम ,
ऐसा है मेरे……

जूठे बेर खाकर संदेश देते हैं ,
केवट का भी कहना कैसे मान लेते हैं ,
शिल की तारी थी तुमने अहिल्या ,
सबके पूरे हुए अरमान ,
ऐसा है मेरे श्री हरि का नाम

aisa hai mere shree hari ka naam ,
kaise unaka karoon gunagaan, baakee koee na karunaanidhaan .
aisa hai mere…..

nishchhal bhakti teree haradam hotee hai ,
lete hain jab pareeksha tab tab rotee hai ,
graah gaj kee katha mein kaha hai ,
gaj kee prabhu ne bachaee hai jaan ,
aisa hai mere …….

teree hee ik krpa se prahlaad banate hain ,
dhrav sa maha tapasvee tera naam japate hain ,
jinako vipada se tumane ubaara ,
de diya unako apana hee dhaam ,
aisa hai mere………

ek baar mein bhee upakaar karate hain ,
nirdhan vipr sudaama ke bhandaar bharate hain ,
dropadee kee bachaee thee laaj ,
unako hee hai mera pranaam ,
aisa hai mere……

joothe ber khaakar sandesh dete hain ,
kevat ka bhee kahana kaise maan lete hain ,
shil kee taaree thee tumane ahilya ,
sabake poore hue aramaan ,
aisa hai mere shree hari ka naam

Leave a Comment