अब लौटे प्रभु निज धाम लिरिक्सab laute prabhu nij dhaam

आश्रय भगती का युग युग से राम तुम्हारा
घट घट में रमने वाले अब लौटे प्रभु निज धाम

दुखियां के तुम राम सहारे पतित भी प्रभु तुमने है तारे,
संतन रिश्री मुनि शरण तुम्हारे
देव भी प्रभु तुम को ही पुकारे,
प्रेम के वश तु सब से हारे,सब के बने सुख धाम
घट घट में रमने वाले अब लौटे प्रभु निज धाम

सेहन शीलता तुम ने सिखाई धर्म परायण तुम रघुराई
धीर वीर चहु दिस के विजेता हरी नाम की राह दिखाई
आई शुभ घडी अब है लौटे राम लला निज धाम

aashray bhagatee ka yug yug se raam tumhaara
ghat ghat mein ramane vaale ab laute prabhu nij dhaam

dukhiyaan ke tum raam sahaare patit bhee prabhu tumane hai taare,
santan rishree muni sharan tumhaare
dev bhee prabhu tum ko hee pukaare,
prem ke vash tu sab se haare,sab ke bane sukh dhaam
ghat ghat mein ramane vaale ab laute prabhu nij dhaam

sehan sheelata tum ne sikhaee dharm paraayan tum raghuraee
dheer veer chahu dis ke vijeta haree naam kee raah dikhaee
aaee shubh ghadee ab hai laute raam lala nij dhaam

Leave a Comment