आजा आजा केवट भैया हमें जाना गंगा पार है लिरिक्सaaja ajaa kevat bhaiya hame jana ganga par hai

आजा आजा केवट भईया हमें जाना गंगा पार है
मातपिता ने वन को भेजा वचन निभाना आज है

केवट हाथ जोड़ के थाडा करें बारम्बार प्रणाम है
मेरी तो लकड़ी की नाव तेरे जादू से भरे पांव है

पत्थर की जो शिला देखी उस पर चरन छुवाया है
चरन धुली से उस शिला को तुमने नारी बनाया है

चरण धुली तुम मुझको दे दो इस छोटे से काठ में
फिर मै तुमको बैठा लूंगा अपनी छोटी सी नाव में

चाहे मुझे प्रभु तार दे चाहे लक्ष्मण मुझे मार दे
जब तक चरण धुली न लेलू नहीं करूंगा पार मैं

प्रभु आज्ञा से चरण धुली ली एक बड़े से पात्र में
पितरों को सब पार करो अब बांट दी सारे गांव में

अभी न लूंगा मै उतराई बाद में तुम्हें चुकाना है
आज किया है मैने पार बाद में तुमको करना है

केवट जैसा हुआ न होगा इस सारे जहान में
प्रभु के चरणों को जिसने खुद रखा अपने हाथ में

aaja aaja kevat bheeya hamen jaana ganga paar hai
maataapita ne van ko bheja vivekapoornaana aaj hai

kevat haath jod ke hada karen baarambaar pranaam hai
meree to lakadee kee naav aap jaadoo se bhare paanv mein hai

patthar kee jo shila ne dekha ki par charan chhue hue hai
charan dhulee se us shila ko aapane naaree banaaya hai

charan dhulee aap mujhako de do is chhote se kaath mein
phir ma tumako baitha loonga apanee chhotee see naav mein

chaahe mujhe prabhu tar de chaahe lakshman mujhe maar de
jab tak charan dhulee na leloo nahin karoge main par

prabhutv se charan dhulee lee ek bade se paatr mein
pitaron ko sab paar ab baant dee saare gaanv mein

abhee na loonga mai utaraee baad mein aapako chukaana hai
aaj kiya hai mainne paar baad mein aapako karana hai

kevat jaisa hua na ho yah saara jahaan mein hoga
prabhu ke charanon ko jisane khud apane haath mein rakha

Leave a Comment