सुखी मेरा परिवार है ये तेरा उपकार हैsukhi mera parivar hai ye tera upkar hai

सुखी मेरा परिवार है ये तेरा उपकार है,
मेरे घर का इक इक पत्थर तेरा कर्ज धार है,

देख गरीबी हम गबराए हम रेहते थे परेशान जी
किस्मत हमको लेके गई थी फिर मैया के धाम जी
नजर पड़ी मेरी मैया की भरा पड़ा भंडार है
सुखी मेरा परिवार है ये तेरा उपकार है,

दभी पड़ी है झोपडी मैया के एहसान से,
भरी पड़ी है कुटियाँ मेरी बस माँ के समान से,
जब भी माँगा मैया से किया नही इंकार है
मेरे घर का इक इक पत्थर तेरा कर्ज धार है,
सुखी मेरा परिवार है ये तेरा उपकार है,

जब जब संकट आता है माँ के आगे रोते है
हम तो इसके भरोसे जी खुटी तान के सोते है,
हर पल करती रखवाली ये बन के पेहरे दार है
मेरे घर का इक इक पत्थर तेरा कर्ज धार है,
सुखी मेरा परिवार है ये तेरा उपकार है,

मैया जी का दिल देखा दिल की बड़ी दिलदार है
इस परिवार को ये समजे खुद का ही परिवार है
ज्यदा से ज्यदा वनवारी हम से करती प्यार है,
मेरे घर का इक इक पत्थर तेरा कर्ज धार है,
सुखी मेरा परिवार है ये तेरा उपकार है,

sukhee mera parivaar hai ye tera upakaar hai,
mere ghar ka ik patthar tera karj dhaar hai,

dekh gareebee ham gabarae ham rehate pareshaan the jee
kismat hamako leke gaee thee phir maiya ke dhaam jee
najar padee meree maiya kee bharee huee bhandaar hai
sukhee mera parivaar hai ye tera upakaar hai,

dabhee padee ne jhopadee maiya ke ehasaan se,
bharee padee hai kutiyaan meree bas maan ke samaan se,
jab bhee maanga maiya se kiya nahee inkaar hai
mere ghar ka ik patthar tera karj dhaar hai,
sukhee mera parivaar hai ye tera upakaar hai,

jab paristhiti aatee hai to maan ke aage rote hai
ham to isake bharose jee khutee taan ke sote hai,
har pal karata rahata hai ye ban ke pehare daar hai
mere ghar ka ik patthar tera karj dhaar hai,
sukhee mera parivaar hai ye tera upakaar hai,

maiya jee ka dil dekha dil kee badee diladaar hai
yah parivaar ko ye samaje khud ka hee parivaar hai
jyada se jyada vanavaaree ham se pyaar karata hai,
mere ghar ka ik patthar tera karj dhaar hai,
sukhee mera parivaar hai ye tera upakaar hai,

Leave a Comment