सिंह सवारी करके मैया आई है नवरात्र मेंsingh swari karke maiya aai hai navraat me

सिंह सवारी करके मैया आई है नवरात्र में
ढोल नगाड़े भज रहे झूम रहे सब साथ में
सिंह सवारी करके मैया आई है नवरात्र में

मन उपवन सब खिल जाए मैया तेरे आने से
हर अँधेरा मिट जाए तेरी ज्योत जलाने दे
चुनडी गजरा मैं पहनाऊ लेकर नाचू हाथ में
ढोल नगाड़े भज रहे झूम रहे सब साथ में

मो कनायो का दर्शन नवराति में होता है
हलवा पुड़ी भोग लगे घर आंगन ये मेहकता है
मेहँदी भी मुस्काये मैया थामे जब तू हाथ में
ढोल नगाड़े भज रहे झूम रहे सब साथ में

राजा केहता मैया तू हर दम पास बुलाते है
लेकिन इन नवरातो में खुद ही मिलने आते है
शंख त्रिशूल की शोभा न्यारी चकर कमल भी हाथ में
ढोल नगाड़े भज रहे झूम रहे सब साथ में

sinh savaaree karake maiya aaee hai navaraatr mein
dhol nagaade bhaj rahe jhoom rahe sab saath mein
sinh savaaree karake maiya aaee hai navaraatr mein

man upavan sab khil jae maiya tere aane se
har andhera mit jae teree jyot jalaane de
chunadee gajara main pahanaoo lekar naachoo haath mein
dhol nagaade bhaj rahe jhoom rahe sab saath mein

mo kanaayo ka darshan navaraati mein hota hai
halava pudee bhog lage ghar aangan ye mehakata hai
mehandee bhee muskaaye maiya thaame jab too haath mein
dhol nagaade bhaj rahe jhoom rahe sab saath mein

raaja kehata maiya too har dam paas bulaate hai
lekin in navaraato mein khud hee milane aate hai
shankh trishool kee shobha nyaaree chakar kamal bhee haath mein
dhol nagaade bhaj rahe jhoom rahe sab saath mein

Leave a Comment