सब कुछ है तेरे पासsab kuch hai tere paas

ओ बंदे सब कुछ है तेरे पास
समझ न आया फिर काहे की करता फिरे तलाश,
ओ बंदे सब कुछ है तेरे पास

हीरनो जैसे वन वन ढोले भरता दुःख और तिरास,
अन्दर बस्ती कस्तूरी न होती पूरी आस रे बन्दे
सब कुछ है तेरे पास …….

पल में हसना पल में रोना पल में होए उधास,
हसी कौन सी अंतर मन में पता न तेरे पास रे बंदे
सब कुछ है तेरे पास .,…………

रटने नाम हरी का बंदे जब तक तन में स्वास,
भीतर जागे ज्योत ज्ञान की होये अजब परकाश रे बंदे
सब कुछ है तेरे पास .,…………

o bande sab kuchh hai tere paas
samajh na aaya phir kaahe kee karata phire talaash,
o bande sab kuchh hai tere paas

heerano jaise van van dhole bharata duhkh aur tiraas,
andar bastee kastooree na hotee pooree aas re bande
sab kuchh hai tere paas …….

pal mein hasana pal mein rona pal mein hoe udhaas,
hasee kaun see antar man mein pata na tere paas re bande
sab kuchh hai tere paas .,…………

ratane naam haree ka bande jab tak tan mein svaas,
bheetar jaage jyot gyaan kee hoye ajab parakaash re bande
sab kuchh hai tere paas .,…………

Leave a Comment