लम्बोर धाम में जो भी माँ का दर्शन करने आते हैंlambor dham me jo bhi maa ka darshan karne aate hai

लम्बोर धाम में जो भी माँ का दर्शन करने आते हैं
चरणों में शीश झुका के माँ का आशीष पाते हैं

मंगल गाये माँ को रिझाये महिमा है इनकी बड़ी
संकट हो या कष्ट सताए रहती है हर दम कड़ी
माँ की गड़ो में बैठ के सारे जीवन का सुख पाते हैं
चरणों में शीश झुका के माँ का आशीष पाते हैं

नवरात्र आया माँ ने लगाया दरबार अपना यहाँ
नर नारी परिवार भी आया मेला सा लगता यहाँ
जात जडूला करने दर पर दूर दोर्र से आते हैं
चरणों में शीश झुका के माँ का आशीष पाते हैं

डगमग डोले जिनकी नैया माँ का धयान लगाए
बांके मैया पल में खिवैया भव से पार लगाए
मन मंदिर में माँ की मूरत प्रेम से सारे सजाते हैं
चरणों में शीश झुका के माँ का आशीष पाते हैं

मनसा माता सा ना दाता विश्वास जो ये करे
खाली कोई दर से ना जाता पल में ये झोली भरे
बिट्टू ये सुनती है दिल की दिल से जो फरमाते हैं
चरणों में शीश झुका के माँ का आशीष पाते हैं

lambor dhaam mein jo bhee maan ka darshan karane aate hain
charanon mein sheesh jhuka ke maan ka aasheesh paate hain

mangal gaaye maan ko rizaee mahima inakee badee hai
sankat ho ya kasht satae rahata hai har dam prakaran
maan kee gado mein baith ke saare jeevan ka sukh paate hain
charanon mein sheesh jhuka ke maan ka aasheesh paate hain

navaraatr aaya maan ne darabaar apana yahaan lagaaya
nar naaree parivaar bhee aa gaya
jaat jadoola karane vaalee dar par door dorr se aate hain
charanon mein sheesh jhuka ke maan ka aasheesh paate hain

dagamag dole jinakee naiya maan ka dhayaan lagaaya gaya
baanke maiya pal mein khivaiya gaur se paar lagae
man mandir mein maan kee moorat prem se sabhee dandate hain
charanon mein sheesh jhuka ke maan ka aasheesh paate hain

manasa maata sa na daata vishvaas jo ye kare
khaalee koee dar se na chala jaata hai
bittoo ye sunatee hai dil kee dil se jo pharamaate hain
charanon mein sheesh jhuka ke maan ka aasheesh paate hain

Leave a Comment