माई के दीवाने जबलपुर वालेmai ke deewane jablpur vale

माई के दीवाने जबलपुर वाले रेवा माई के
हे मोरी माई के दीवाने जबलपुर वाले रेवा माई के

भु़ंनसारे से दर्शन,खो आवे
दर्शन को आवे और डुबकी लगावे
राम राम धुन सांझ, सकारे मोरी माई के——

निर्धन और धनवान है आवे
घाट घाट भंडारे करावे
गुंजे हर हर नर्मदे जय कारे मोरी
माई के———-

माई नर्मदा में मेला लगत है
दूर-दूर से आवे भगत हैं
कर दर्शन से ,वारे न्यारे मोरी माई के———-

मक्ररवाहिनी है महारानी
जय जगतारण है, महारानी
कर दर्शन मां हर,जन तारे मोरी माई ने———–

उमा घाट में होवे आरती
भक्तजनों को मां है, तारती
राजदीप मां भजन दुआरे मोरी माई के——-
है ‘मोरी माई के दीवाने-

maee ke deevaane jabalapur vaale reva maee ke
he moree maee ke deevaane jabalapur vaale reva maee ke

bhunasaare se darshan, khoya aave
darshan ko aave aur dubakee lagaave
raam raam dhun saanjh, sakaare moree maee ke ——

nirdhan aur dhanavaan ko aavak hotee hai
ghaat ghaat bhandaare karaave
gunje har har narmade jay kaare moree
maee ke ———-

maee narmada mein mela lagat hai
door-door se aave bhagat hain
kar darshan se, vaare nyaare moree maee ke ———-

makraravaahinee hai mahaaraanee
jay pratibhaav hai, mahaaraanee
kar darshan maan har, jan taare moree maee ne kaha ———–

uma ghaat mein hove aaratee
bhaktajanon ko maan hai, taaratee
raajadeep maan bhajan duaare moree maee ke ——-
hai moree maee ke deevaane —-

Leave a Comment