तेरी दया के फूल माँteri daya ke phul maa jisko bhi mil gaye

तेरी दया के फूल माँ जिस को मिल गये,
तेरी किरपा से माँ उनके जीवन सवर गए
तेरी दया के फूल माँ जिस को मिल गये,

जब से ओ मेरी मैया हमने पुकारा तुम को
देकर सहारा मैया तुमने उबारा हमको
थे ठोकरो में माँ अब मंजिल से मिल गए
तेरी दया के फूल माँ जिस को मिल गये,

घूमनाम जिंदगानी कोई पूछता ना था
मुझको कोई भी रास्ता सुजता न था
तेरे दर पे आके माँ मेरे नसीब खुल गए

तेरी ज्योत का उजाला जिस को भी मिल गया
उसके चमन का फूल माँ पल में ही खिल गया
करता रहू गुणगान माँ दीपक यही कहे
तेरी दया के फूल माँ जिस को मिल गये,

teree daya ke phool maan jo ko mil gaee,
teree kirapa se maan unakee jindagee savar gaee
teree daya ke phool maan jo ko mil gaee,

jab se o meree maiya hamane pukaara tum ko
dete hue maiya tum ubar hamako
thokaro mein maan ab manjil se chakkee chalee gaeen
teree daya ke phool maan jo ko mil gaee,

ghoomane ka naam jindagaanee koee poochhata nahin tha
mujhako koee bhee raasta sujata na tha
tere dar pe aake maan mera nase khul gayee

teree zaat ka ujaala jis ko bhee mil gaya
usake chaman ka phool maan pal mein hee khil gaya
karata rahoo gunagaan maank yahee kah raha hai
teree daya ke phool maan jo ko mil gaee,

Leave a Comment