चूहा तेरा गौरा के लालchua tera gora ke laal

चूहा तेरा गौरा के लाल मुशक तेरे गोरा के लाल मेरी कुटियाँ में आ कर के,
चावल संग मोग की दाल तरी गया चट खा कर के

हमने तो बनाया था लड्डू पेडे तेरे लिये,
हलवा भी बनाया था हे घनानन तेरे लिए
वाहन तेरा खुश हो गया ये पकवान पा कर के
मुशक तेरे गोरा के लाल मेरी कुटियाँ

हम तो मंगाई थी इक धोती तुम्हारे लिए
हार में पिरो थे कई मोती तुम्हारे लिए
सब कुछशाक लिया पल भर में वो जा कर के
मुशक तेरे गोरा के लाल मेरी कुटियाँ

मुश्क तेरा चंचल है उसे तुम ही मना लेना
रुखा सुखा जो भी बचा उसे भोग बना लेना
करो किरपा तुम हम पे भी बेठ मुस्क घर आ कर के
चूहा तेरे गोरा के लाल मेरी कुटियाँ

chooha tera gaura ke laal mushak teree gora ke laal meree kutiyaan mein aa kar ke,
chaaval sang mog kee daal tareeke se chat kha kar ke

hamane tab banaaya tha laddoo pede tumhaara,
halava bhee banaaya tha he ghanaanan tere lie
vaahan tera khush ho gae yesheep pa kar ke
mushak teree gora ke laal meree kutiyaan

ham to mangee the ik dhotee tumhaare lie
haar mein paayo kaee motee tumhaare lie the
sab kuchhashaak ne bhar diya
mushak teree gora ke laal meree kutiyaan

mushk tera chanchal ne use keval manaane ke lie liya hai
ruka sukha jo bhee bacha use bhog bana lena
dorapa aap ham pe bhee beth muskara ghar aa kar ke
chooha teree gora ke laal meree kutiyaan

Leave a Comment