गणराया गणराया विघन हरो गणरायाganrayaa ganraaya vidhan haro ganraya

गणराया गणराया विघन हरो गणराया
तेरे द्वारे जो आया तूने उस को है तारा
तेरी लीला का पार नही पाया
गणराया गणराया विघन हरो गणराया

मन मन्दिर में तुझको बिठा के नैनो में तुझको बसा के
तेरा पूजन करू मैं देवा तेरी छवि बना के
गणराया गणराया विघन हरो गणराया

इक दंत महाकाय ये गनेशा तेरी दया हो हम पर
देवो में तुम देव निराले हे सूत गोरी शंकर
गणराया गणराया विघन हरो गणराया

हो सबकी सुनी है मेरी भी सुन लो
हे विधानेश्वर स्वामी
मैं क्या मांगू तुम सब जानो तुम प्रभु अंतर यामी
गणराया गणराया विघन हरो गणराया

ganaraaya ganaraaya vighn haro ganaraaya
tere dvaare jo aaya toone vah ko tar hai
teree leela ka paar nahin paaya
ganaraaya ganaraaya vighn haro ganaraaya

man mandir mein tujhako bitha ke doston mein tujhako baasa ke
tera poojan karoo main deva teree chhavi bana ke
ganaraaya ganaraaya vighn haro ganaraaya

ik dant mahaakavi ye ganesha teree daya ho ham par
devo mein tum dev niraale he soot goree shankar
ganaraaya ganaraaya vighn haro ganaraaya

ho sabakee sunee hai meree bhee sun lo
he agreshvar svaamee
main kya maangoo tum sab jaano tum prabhu antar yaamee
ganaraaya ganaraaya vighn haro ganaraaya

Leave a Comment