गणपती बाप्पा मोरियाganpati bhappa moriya kalyug me kya ho riha

गणपती बाप्पा मोरिया कलयुग में क्या जो रिहा
पढ़े लिखे को काम नही कर रहे वो चोरियां
गणपती बाप्पा मोरिया कलयुग में क्या जो रिहा

बहु सास की सुनती नही है हो रही तू तू मैं मैं
जरा सा झडा बड जाए तो चल जावे मायेके में
सास बहु में बनती नही है हो रही जोर जोरियाँ
गणपती बाप्पा मोरिया कलयुग में क्या जो रिहा

देहज के खातिर बहु परेशान सासू रोज लडे है,
चार चको की मांगत गाडी मांगी लाल बने है
देहज की खातिर बहु जला दी थाणे में क्यों रो रेहा,
गणपती बाप्पा मोरिया कलयुग में क्या जो रिहा

होता बटवारा घर का जब बटवारे पर लड़ते रिश्ते नाते भूल ही जाते दुशमन जैसे लड़ते,
भाई का वैरी भाई बना भाई पे भाई चला रहा गोलियां
गणपती बाप्पा मोरिया कलयुग में क्या जो रिहा

गाये हमारी बटक रही है काट रहे चरखो में
काहे जाए क्या जा कर खाए उछल रहे ट्रको में
गाये की सेवा कोई कोई करता
कुते को साबुन से धो रिहा
गणपती बाप्पा मोरिया कलयुग में क्या जो रिहा

कोई है छोटू खोटू किसी का फ़ोन में हो रही चर्चा
बाते आगे बड गी शादी को छप गया पर्चा
पत्नी करे आराम पलंग पे पति पका रहा रोटिया
गणपती बाप्पा मोरिया कलयुग में क्या जो रिहा

मंदिर में तो लोग नही तो खाली नही कलारी
देवा सब पर किरपा कीजियो विनती यही हमारी
राम नाम को भूल गये विश्सकी पी अर में खो रिहा,
गणपती बाप्पा मोरिया कलयुग में क्या जो रिहा

ganapatee baappa moriya kalayug mein kya jo riha
padhe likhe ko kaam nahee kar rahe vo choriyaan
ganapatee baappa moriya kalayug mein kya jo riha

bahu saas kee sunatee nahee hai ho rahee too too main main
jara sa jhada bad jae to chal jaave maayeke mein
saas bahu mein banatee nahee hai ho rahee jor joriyaan
ganapatee baappa moriya kalayug mein kya jo riha

dehaj ke khaatir bahu pareshaan saasoo roj lade hai,
chaar chako kee maangat gaadee maangee laal bane hai
dehaj kee khaatir bahu jala dee thaane mein kyon ro reha,
ganapatee baappa moriya kalayug mein kya jo riha

hota batavaara ghar ka jab batavaare par ladate rishte naate bhool hee jaate dushaman jaise ladate,
bhaee ka vairee bhaee bana bhaee pe bhaee chala raha goliyaan
ganapatee baappa moriya kalayug mein kya jo riha

gaaye hamaaree batak rahee hai kaat rahe charakho mein
kaahe jae kya ja kar khae uchhal rahe trako mein
gaaye kee seva koee koee karata
kute ko saabun se dho riha
ganapatee baappa moriya kalayug mein kya jo riha

koee hai chhotoo khotoo kisee ka fon mein ho rahee charcha
baate aage bad gee shaadee ko chhap gaya parcha
patnee kare aaraam palang pe pati paka raha rotiya
ganapatee baappa moriya kalayug mein kya jo riha

mandir mein to log nahee to khaalee nahee kalaaree
deva sab par kirapa keejiyo vinatee yahee hamaaree
raam naam ko bhool gaye vishsakee pee ar mein kho riha,
ganapatee baappa moriya kalayug mein kya jo riha

Leave a Comment