गणपति मेरे देवा घर में पधारोganpati mere deva ghar me padharo

गणपति मोरे देवा घर में पधारो ,
घर में पधारो देवा घर में पधारो ,
सिद्धिविनायक गणपति देवा घर में पधारो,
गणपति मोरे देवा घर में पधारो,

हे जग वंदन गौरी नंदन हम पानी तुम चंदन
बड़ी श्रद्धा से हम सब मिलकर करते हैं तेरा वंदन
रिद्धि सिद्धि संग ले के देवा घर में पधारो

बैठने को सिंहासन बनाया फूलों से उसे सजाया
अबीर गुलाल का तिलक लगाकर आनंदित मन हरसाया
माता गौरा पिता शंकर के संग घर में पधारो

मोदक लड्डू भोग लगाकर अपने शीश नमाऊ
कृपा हम पर बरसा दो देवा तेरा आशीष मैं पाऊं
करके मुंष की सवारी गणपति जी पधारो

ganapati more deva ghar mein padhaaro ,
ghar mein padhaaro deva ghar mein padhaaro ,
siddhivinaayak ganapati deva ghar mein padhaaro,
ganapati more deva ghar mein padhaaro,

he jag vandan gauree nandan ham paanee tum chandan
badee shraddha se ham sab milakar karate hain tera vandan
riddhi siddhi sang le ke deva ghar mein padhaaro

baithane ko sinhaasan banaaya phoolon se use sajaaya
abeer gulaal ka tilak lagaakar aanandit man harasaaya
maata gaura pita shankar ke sang ghar mein padhaaro

modak laddoo bhog lagaakar apane sheesh namaoo
krpa ham par barasa do deva tera aasheesh main paoon
karake munsh kee savaaree ganapati jee padhaaro

Leave a Comment