गणपति मेरे अंगना पधारोganpati mere angana padhaaro

गणपति मेरे अंगना पधारो,
आस तुम से लगाये हुए है,
काज करदो हमारे भी पुरे तेरे चरणों में हम तो खड़े है

कितनी श्रधा से मंडप सजाया अअपने घर में ही उत्सव मनाया,
सचे मन से ये दीपक जलाया भोग मोदक का तुम को लगाया,
रिधि सीधी को संग लेके आओ
हाथ जोड़े ये विनती किये है,

वीधन हरता हो तुम दुःख हरते,
अपने भगतो का मंगल हो करते,
हे चतुर बुज सीधी विनायक उसकी सुखो से झोली हो भरते,
रेहते सुभ लाभ संग में तुम्हारे,
हाथ पुस्तक मोदक लिए है,

करते वन्दन है गोरी के लाला
मेरे जीवन में करदो उजाला,
पिता भोले है गणपति तुम्हारे
सभी देवो के तुम ही हो प्यारे,
इस गिरी की भी सुध लेलो भप्पा,
काज कितनो के तुम ने किये है

ganapati mere angana padho,
aas tum se lagaaye hue hai,
kaaj karado hamaare bhee pure tumhaaree avastha mein ham to khade hai

bahut shraddha se mandap aur aapane ghar mein hee utsav manaaya jaata hai,
bhay man se ye deepak jalaaya bhog modak ka aap ko lagaaya,
ridhi seedhe kore leke aao
haath jod ye vinatee kiya hai,

vidhan harata ho tum duhkh harate,
apane bhagato ka mangal ho karo,
he chatur buj seedhee vinaayak usakee sukho se jholee ho bharate,
rehate subh laabh sang mein tumhaara,
haath pustak modak ke lie hai,

karate vandan mein goree ke laala hain
mere jeevan mein karado ujaala,
pita bhole ke paas ganapati aapake hain
sabhee devo ke tum hee ho pyaare,
yah giree kee bhee sudh lelo bhappa,
kaaj kitano ke tumane kiya hai

Leave a Comment