कब से मेरे नैना तरस रहे मुलाक़ात के लिएkab se mere naina tars rahe mulaakat ke liye

कब से मेरे नैना तरस रहे मुलाक़ात के लिए
आ जाओ गणपति मोरेया इक रात के लिए,
कब से मेरे नैना तरस रहे मुलाक़ात के लिए

हे विघन हरन लम्बोदर रिधि सीधी के सोहर,
चूहे पे आओ चढ़ कर सिर ऊपर मुकट पेहन कर
लड्डूवन का भोग बनाया है परशाद के लिए
आ जाओ गणपति मोरेया इक रात के लिए,
कब से मेरे नैना तरस रहे मुलाक़ात के लिए

है दर्शन की शुभ वेला मोसम भी है अलबेला,
भगतो का लगा है मेला आये है गुरु और चेला
बस इक झलक दिखला दो न मुराद के लिए
आ जाओ गणपति मोरेया इक रात के लिए,
कब से मेरे नैना तरस रहे मुलाक़ात के लिए

मिरदंग और ढोल भजा है फूलो से भवन सजा है
तू आजा कहा छिपा है दर्शन को अनाड़ी खड़ा है,
कुछ पल को दूर हटा दे अपनी याद के लिए
आ जाओ गणपति मोरेया इक रात के लिए,
कब से मेरे नैना तरस रहे मुलाक़ात के लिए

kab se mere naina taras rahe mulaaqaat ke lie
aa jao ganapati more ik raat ke lie,
kab se mere naina taras rahe mulaaqaat ke lie

he vighan haran lambodar ridhi seedhee ke sohar,
choohe pe aao chadh kar sir oopar mutth pehan kar
laddoovan ka bhog nirmit hai parashaad ke lie
aa jao ganapati more ik raat ke lie,
kab se mere naina taras rahe mulaaqaat ke lie

hai darshan kee shubh vela mosam bhee hai alabela,
bhagato ka laga hai mela aaye hai guru aur chela hai
bas ik jhalak dikhala do na muraad ke lie
aa jao ganapati more ik raat ke lie,
kab se mere naina taras rahe mulaaqaat ke lie

miradang aur dhol bhaja hai phoolo se bhavan saja hai
too aaja ne chhipa diya hai darshan ko anaadee khada hai,
kuchh pal ko door hata de apanee yaad ke lie
aa jao ganapati more ik raat ke lie,
kab se mere naina taras rahe mulaaqaat ke lie

Leave a Comment